मोक्षधाम योजना हिमाचल 2022 | Himachal Pradesh Moksh Dham Yojana क्या है?

Himachal Pradesh Moksh Dham Yojana: हिमाचल प्रदेश सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा राज्य के शमशान घाटों को विकसित करने के उदेश्य से हिमाचल मोक्षधाम योजना की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के परंपरागत शमशान घाटों को सुविधायुक्त बनाया जायेगा, एवं शमशान घाटों को सनातन धर्म के अनुरूप बनाया जायेगा, इससे शव के दाह संस्कार के समय मृतक के परिवार को अंतिम क्षणों में एक अच्छा माहौल मिलेगा। इससे शमशान घाटों में दाह संस्कार में आने वाली समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

himachal pradesh moksh dham yojana

योजना के शुरुआत के अवसर पर प्रदेश के ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंदर कंवर ने कहां कि प्रदेशभर में सभी परम्परगत शमशान घाटों को आधुनिक व सनातन धर्म के अनुरूप विकसित किया जायेगा। इस योजना से शमशान घाट पर बैठने की व्यवस्था भी की जाएगी।

मोक्ष धाम योजना हिमाचल प्रदेश 2022

हिमाचल ग्रामीण विकास मंत्रालय की इस योजना से राज्य के सभी शमशान घाटों का आधुनिकीकरण किया जायेगा, साथ ही दाह संस्कार में भाग ले रहे लोगों को बैठने की व्यस्था भी की जाएगी। राज्य में इस योजना के शुरू होने से पहले भी पिछले 5 वर्षों के दौरान लगभग 1650 लाख रुपये इन कार्यों में खर्च किये गए है, इस राशि से प्रदेश के 477 शमशान घाटों का पुनर्निर्माण किया गया है, इन घाटों पर बैठने की व्यवस्था, बारिश के समय के लिए शेड भी बनवाये गए है। ये भी पढ़ें – हिमाचल भू नक्शा

Himachal Pradesh Moksh Dham Yojana Highlights

योजना का नाम मोक्ष धाम योजना
संबधित राज्य हिमाचल
शुरुआत2020
उदेश्य शमशान घाटों का पुनर्निर्माण।
लाभार्थी हिमाचल के लोग।
संबधित मंत्रालय ग्रामीण विकास मंत्रालय हिमाचल।

मोक्ष धाम योजना के उदेश्य / मुख्य बिंदु

  • मोक्षधाम योजना के द्वारा प्रदेश के पुराने परंपरागत शमशान घाटों का पुनर्निर्माण किया जायेगा।
  • प्रदेश के सभी पंचायतों में मोक्षधाम बनाया जायेगा, जिसमे आधुनिक सुविधायुक्त रहेगा, इस योजना के अंतर्गत हिमाचल सरकार द्वारा पिछले 5 वर्षों में 477 शमशान घाटों का पुनर्निर्माण करवा लिया है, जिसके लिए कुल लगभग 1650 लाख रुपये खर्च किये गए है।
  • पिछले पांच वर्षों में इस योजना के अंतर्गत सबसे ज्यादा कांगड़ा जिले में 131 शमशान घाटों का निर्माण / विकसित किये गए है।
  • मोक्षधाम योजना के द्वारा अन्य जिलों जैसे – बिलासपुर में 9, चम्बा में 127 शमशान घाट, कांगड़ा (131), हमीरपुर (15), शिमला (20), कुल्लू (49), सिरमौर(7), सोलन(10), मंडी (82) एवं ऊना में 27 शमशान घाटों को विकसित करवाया गया है।
  • राज्य में प्रत्येक जिलों में औसतन 100 मोक्षधाम बनवाये जायेंगें, जिनमें बैठने के लिए बेंच की व्यस्था, बारिश के लिए शेड, अच्छा रास्ता एवं स्वच्छ जल आदि की व्यस्था की जाएगी।
  • मोक्षधाम के निर्माण कार्य नरेगा मजदूरों एवं राज्य योजना आदि के तहत करवाया जा रहा है।

योजना के लिए आवेदन

दोस्तों यह योजना व्यक्तिगत लाभ के लिए नहीं है, बल्कि यह एक सार्वजानिक स्कीम है, और इसका लाभ भी सार्वजानिक रूप से ही मिलेगा। सरकार द्वारा इस योजना के तहत शमशान घाटों का जीर्णोद्धार करवाया जा रहा है। समाज के किसी भी परिवार के सदस्य का देहांत होने पर यहां बिना किसी समस्या के दाह संस्कार करवाया जा सकेगा।

टोल फ्री नंबर

योजना से जुडी अधिक जानकारी के लिए आप हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते है।

मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन1100

FAQ : Himachal Mokshdham Yojana

प्रश्न – क्या हिमाचल मोक्ष धाम योजना का लाभ व्यक्तिगत रूप से लिया जा सकता है?

उत्तर – नहीं, यह एक सार्वजानिक योजना है, आप इसका लाभ व्यक्तिगत रूप से नहीं ले सकते है।

Leave a Comment

x
error: Content is protected !!