Annapurna Rasoi Yojana – 2022 | राज्यवार अन्नपूर्णा रसोई योजना

Annapurna Rasoi Yojana | अन्नपूर्णा रसोई योजना | यूपी प्रभु की रसोई योजना | इंदिरा रसोई योजना | अम्मा कैंटीन |

Annapurna Rasoi Yojana

Annapurna Rasoi Yojana 2022: आज इक्कीसवी सदी में हम एक ओर मंगल गृह तक पहुँच चुके है, वहीं दूसरी ओर आबादी का एक बड़ा हिस्सा आज भी ऐसा है, जिन्हें दो वक्त का खाना भी प्रयाप्त नहीं मिल पाता है। हमारे देश भी इस समस्या से अछूता नहीं है, देशभर के कहि गरीब परिवारों को दो वक्त का भोजन बड़ी मुश्किलों से नसीब होता है, इसलिए देश के विभिन्न राज्यों द्वारा गरीबों के लिए विशेष अभियान चलाये जा रहे है। इसके लिए राज्य सरकारें समय समय पर कहीं योजनाएं लाती रहती है। इन्हीं योजनाओं में से एक योजना अन्नपूर्णा रसोई योजना है।

Annapurna Rasoi Yojana 2022

अन्नपूर्णा रसोई योजना आज कहीं राज्यों द्वारा चलाई जा रही है। अलग-अलग राज्यों में इसे भिन्न नाम दिए गए है, लेकिन इन सबका उदेश्य एक ही है।हालाँकि यह योजना काफी अच्छी है, लेकिन फिर भी कहीं बार इन योजनाओं का लाभ सही व्यक्ति तक नहीं पहुँच पाटा है। अन्नपूर्णा रसोई योजना के अंतर्गत कहीं स्थानों पर सरकारी केंटीन खोली जाती है, जहाँ पर बिना किसी भेदभाव के बहुत कम दाम/कीमत पर खाना दिया जाता है।

Annapurna Rasoi Yojana

देशभर भर में प्रतिदिन लाखों लोग प्रयाप्त भोजन नहीं होने के कारण भूखे सोते है। इसके साथ ही विभिन्न बीमारियों की चपेट में आ जाते है, भूख से कई गरीब अपनी जान भी गँवा बैठते है | इस योजना के तहत कम मूल्य पर भरपेट भोजन दिया जाता है | इस योजना के अंतर्गत सिर्फ 3 रूपए में नाश्ता और 5 रूपए में भरपेट लंच-डिनर दिया जाता है (नोट – विभिन्न राज्यों में ये दाम भिन्न हो सकते है।) | अन्नपूर्णा रसोई योजना देश के कई राज्यों में सफलतापूर्वक चलायी जा रही है, इनमें उत्तर प्रदेश,  गुजरात, मध्य प्रदेश, हरियाणा, और राजस्थान इत्यादि शामिल है | ये भी पढ़ें- पीएम गरीब कल्याण योजना।

यूपी प्रभु की रसोई योजना संक्षिप्त विवरण

योजना का नामअन्नपूर्णा रसोई योजना
लोकेशनभारत के विभिन्न राज्य।
लाभार्थीसभी राज्यों के गरीब लोग।
वेबसाइटयहां क्लिक करें
वर्ष2022
आवेदन प्रक्रियाआवश्यकता नहीं।

अन्नपूर्णा रसोई योजना की विशेषताएं 

  • इस योजना के अंतर्गत कैंटीनों का निर्माण रेलवे स्टेशन के आसपास एवं अन्य भीड़भाड़ वाले स्थानों पर बनायीं जाएगी, जिससे कि जयादा से ज्यादा जरूरतमंद लोगों को इसका लाभ मिल सकें। 
  • योजना के तहत गरीबों को महज 5 रूपए में भरपेट खाना दिया जायेगा। जिसमें दाल, रोटी, सब्जी और चावल मुख्य रूप से शामिल होंगे | 
  • योजना के तहत केवल 3 रूपए में नाश्ता मिलेगा, जिसमें चाय, पकोड़ा, इडली-सांभर और पोहा मुख्य रूप से शामिल होंगे | 
  • इस योजना के अंतर्गत एक समय का खाना गरीबों को निःशुल्क उपलब्ध करवाया जायेगा |
  • सूत्रों के अनुसार इस योजना के लिए राज्य सरकार के द्वारा 150 करोड़ का बजट प्रस्तावित किया गया है और अन्नपूर्णा कैंटीन यूपी राज्य के बड़े शहरों में बनाये जाएंगे | 
  • इस योजना के अंतर्गत करीब 270 से भी ज्यादा अन्नपूर्णा रसोई / कैंटीन पूरे राज्य भर में बनाये जाएंगे | 
  • इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले नाश्ते और लंच का विशिष्ट मात्रा में वजन और समय के अनुसार पेश किया जाएगा | नाश्ते के लिए मिलने वाले भोजन का वजन लगभग 200 ग्राम होगा और सुबह 7.00 से 10.00 बजे तक दिया जाएगा | लंच में मिलने वाले भोजन का वजन 450 ग्राम होगा और वो दोपहर 12 से 3 बजे तक दिया जाएगा | 
  • इसके अलावा अन्नपूर्णा रसोई योजना के तहत भोजन उपलब्ध कराने वाले कैंटीनों में बेसिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी जैसे पेयजल की सुविधा, शौचालय, डस्टबिन और वाशबेसिन इत्यादि | 
  • लाभार्थियों को भोजन प्राप्त करने के लिए विशेष टोकन उपलब्ध कराये जाएंगे | ये टोकन 7 दिनों तक वैध रहेंगे | गरीबों के लिए इस योजना के तहत अन्नपूर्णा कैंटीन से भोजन प्राप्त करने के लिए इन टोकन को रिचार्ज किया जा सकेगा | 

अन्नपूर्णा रसोई योजना के उद्देश्य 

  • इस योजना का उद्देश्य केवल भोजन उपलब्ध कराना ही नहीं है अपितु भोजन में मिलने वाली पौष्टिकता का ध्यान रखना भी है | 
  • भोजन में विटामिन और मिनरल की कमी के कारण बच्चों में कई तरह की कमियाँ उत्पन्न होने लग जाती है और वे कुपोषण के शिकार हो जाते है | उनमें विटामिन और मिनरल की कमी से होने वाले रोग भी उत्पन्न होने लग जाते है | 
  • इसलिए इस योजना को इसी मकसद से शुरू किया गया है की लोगों को भोजन में केवल स्वाद ही नहीं वरन सभी तरह के विटामिन और मिनरल मिले | भोजन पौष्टिकता से परिपूर्ण हो तभी शारीरिक और मानसिक विकास संभव हो पायेगा | 
  • यह योजना निश्चित रूप से बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार करेगी और उनका अनमोल जीवन सुरक्षित हो सकेगा |  
  • इस योजना से गरीबों को काफी लाभ मिलेगा क्योंकि उनकी भोजन सम्बन्धी समस्या का समाधान हो पायेगा | 
  • इस योजना से बच्चे स्वस्थ रहेंगे और देश के विकास में अपना योगदान दे सकेंगे | 

अन्नपूर्णा रसोई योजना योग्यता 

  •  इस योजना को गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों के लिए परिभाषित किया गया है | इसलिए राज्य सरकार द्वारा इस योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता के रूप में कोई विशिष्ट नियम नहीं बताये गए है | 
  • इस योजना के तहत अन्नपूर्णा रसोई राज्य के सभी नगरपालिका क्षेत्रो में खोली जायेगी जो कम कीमत में स्वादिष्ट एवं गुणवत्तापूर्ण भोजन उपलब्ध कराएगी | 

अन्नपूर्णा रसोई योजना की शुरुआत

अन्नपूर्णा रसोई योजना का विचार तमिलनाडु राज्य के अम्मा कैंटीन से प्राप्त हुआ | अम्मा कैंटीन तमिलनाडू राज्य में स्थापित की गयी थी, जिसका मुख्य उद्देश्य कम मूल्य पर भोजन उपलब्ध करवाना था। अम्मा केंटीन को देखकर अन्य राज्यों द्वारा भी इस तरह के केंटीन योजना शुरू की गयी। इस केंटीन के शुरू होने से लोगों को कम मूल्य पर भोजन अच्छा खाना उपलब्ध हो पता है।

अम्मा केंटीन की शुरुआत तमिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री स्व जे. जयललिता द्वारा की गयी थी। जयललिता अम्मा नाम से प्रसिद्ध है, यही कारण है कि इसे अम्मा केंटीन नाम दिया गया। तमिलनाडु राज्य में अम्मा कैंटीन की सफलता को देखते हुए, अन्य राज्यों की तरह यूपी सरकार द्वारा भी इस तरह की केंटीन शुरू की गयी जिसे अन्नपूर्णा रसोई योजना नाम दिया गया। यूपी के अलावा इस योजना की शुरुआत कहीं अन्य राज्यों द्वारा भी की गयी है। इनमे से कुछ राज्यों का संक्षिप्त विवरण निम्न है।

यूपी प्रभु की रसोई योजना

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने हाल ही यूपी प्रभु की रसोई योजना शुरू की है, जो की अन्नपूर्णा रसोई योजना की तरह ही है | इस योजना का मुख्य उद्देश्य यही है, कि राज्य के गरीबों को मुफ्त में भरपेट भोजन उपलब्ध हो और कोई भी भूखा ना रहे | इस योजना की शुरुआत यूपी राज्य के सहारनपुर जिले में शुरू की गई थी। राज्य सरकार ने प्रशासनिक अधिकारियों, एनजीओ उद्योगपतियों से अपील की है कि इस योजना का समर्थन करने के लिए आगे आना चाहिए।

उत्तर प्रदेश आबादी में देश का सबसे बड़ा राज्य है, यहां पर बहुत बड़ी संख्या में गरीब रहते है। इसलिए राज्य सरकार चाहती है कि गरीबों के स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार हो सके और उन्हें कुपोषण की स्थिति का सामना ना करना पड़े। 

गुजरात अन्नपूर्णा रसोई योजना

गुजरात सरकार ने भी इस योजना की हाल ही शुरुआत की है जिसके तहत अब गरीबों को 10 रूपए में भरपेट खाना मिल सकेगा | इस योजना के अंतर्गत गरीबों को गुजराती थाली परोसी जायेगी जिसमें ढोकला, खमण, गुजराती कढ़ी मुख्य रूप से शामिल होंगी | 

राजस्थान अन्नपूर्णा रसोई योजना

राजस्थान में इस योजना को इंदिरा रसोई योजना या अन्नपूर्णा रसोई नाम दिया गया है, जिसे माननीय मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा शुरू किया गया है | इस योजना के अंतर्गत गरीबों को 5 रूपए में भरपूर नाश्ता जिसमें पोहा, सेवइया, इडली-सांभर, लापसी इत्यादि शामिल है और 8 रूपए में लंच तथा रात्रि का भोजन शामिल है लोगों को परोसा जाएगा |

अन्नपूर्णा रसोई योजना क्या है?

विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा बहुत कम दाम पर चलायी जाने वाली केंटीन योजना है। इस तरह की योजना सर्वप्रथम तमिलनाडु राज्य में चलायी गयी थी। आज कहीं राज्यों द्वारा इस तरह की योजनाएं चलायी जा रही है।

Leave a Comment

x
error: Content is protected !!