झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2022 | Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana, ऑनलाइन साइबर क्राइम के उपाय, साइबर क्राइम सूची

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana 2022: आज के डिजिटलीकरण युग में साइबर क्राइम की घटना दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, जिसे रोकना बेहद जरूरी हो गया है। क्यूंकि आये दिन हमारे साथ किसी न किसी तरह की ऑनलाइन ठगी होती रहती है। हमारे देश में ऐसे कई राज्य है, जहां साइबर क्राइम की घटनाएं सबसे ज्यादा होती है, इनमें से एक झारखंड भी है। इसलिए साइबर क्राइम को रोकने के लिए झारखंड सरकार द्वारा झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से साइबर क्राइम अपराध को रोकने के लिए एक टीम का गठन किया जाएगा। इस टीम द्वारा साइबर क्राइम के केस देखे जाएंगे एवं इससे संबंधित समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana

इसके अलावा बच्चों एवं महिलाओं को इसका विशेष प्रशिक्षण दिया जायेगा, जागरूक भी किया जायेगा, ताकि उन्हें साइबर अपराधों से बचाया जा सके। आज के इस लेख में आप Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana 2022 के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने वाले हैं। जैसे – झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना क्या है, इसके लाभ (Benefits), उद्देश्य, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन की प्रक्रिया आदि से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए कृपया इस लेख को अंतर तक अवश्य पढ़े। 

विषय सूची

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2022

झारखंड सरकार द्वारा 17 दिसंबर 2020 को झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना का शुभारंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से राज्य के बच्चों एवं महिलाओं को साइबर क्राइम से बचने के लिए जागरूक किया जाएगा ताकि वह साइबर क्राइम का शिकार होने से बच सकें। बच्चों एवं महिलाओं के साथ हमेशा कोई ना कोई घटना घटते रहती है। और पुलिस की व्यवस्था कमजोर होने के कारण अपराधी पकड़े भी नहीं जाते। जिससे उन्हें अपराध करने के लिए और अधिक बढ़ावा मिल जाता है।

इसलिए झारखंड सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से बढ़ते साइबर क्राइम अपराध से निपटने के लिए पुलिस अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने के लिए निर्देश दे दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा साइबर क्राइम (Cyber Crime) के अपराधों से बचने के लिए स्कूल के बच्चों को ‘सामुदायिक पुलिसिंग’ प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। जिससे वह पुलिस की सहायता भी कर पाएंगे। 

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana 2022 Overview

योजना का नामझारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 
किसने शुरू कियामुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी ने 
लाभार्थीराज्य के सभी नागरिक 
उद्देश्यसाइबर क्राइम को रोकना एवं नागरिको को सुरक्षा प्रदान करना
राज्यझारखंड 
साइबर क्राइम नंबर (झारखंड)                                       9771432133
योजना शुरू हुआ                                           17 दिसंबर 2020
वर्तमान वर्ष2022
आवेदन की प्रक्रियाअभी जारी नहीं
आधिकारिक वेबसाइटhttps://jhpolice.gov.in/

झारखण्ड झारसेवा पोर्टल

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana का उद्देश्य

आज पूरे देशभर में साइबर क्राइम की घटना तेजी से बढ़ रही है। देश में प्रतिदिन साइबर क्राइम अपराध के सैकड़ों मामले सामने आते हैं। लेकिन पुलिस द्वारा बहुत कम मामले ही सॉल्व किए जाते हैं, अधिक मामलों में अपराधी पकड़े नहीं जाते। जिस कारण अपराधियों को और अधिक बढ़ावा मिल जाता है। इसलिए झारखंड सरकार द्वारा बढ़ रहे साइबर क्राइम के अपराधियों को कम करने एवं राज्य के नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना को शुरू करने का निर्णय लिया गया है। 

इस योजना के तहत राज्य के बच्चों को भी साइबर क्राइम के बारे में प्रशिक्षण (ट्रेनिंग) दिया जाएगा। जिससे वह साइबर क्राइम के बारे में जानकारी प्राप्त कर जागरूक हो सके और भविष्य में ऐसे अपराधियों से बच सकें। इस योजना के माध्यम से प्रशिक्षित बच्चे पुलिस की मदद भी कर सकते हैं। राज्य सरकार द्वारा पुलिस के आधुनिकीकरण पर अधिक जोर दिया जा रहा है ताकि राज्य के नागरिकों को सुरक्षा प्रदान किया जा सके।

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • इस योजना को झारखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा 17 दिसंबर 2020 को शुरू करने का निर्णय लिया गया था।
  • झारखंड सरकार द्वारा साइबर क्राइम को रोकने एवं नागरिकों को अपराधियों से बचाने के लिए Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana को शुरू किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से नागरिकों को विभिन्न प्रकार के साइबर अपराधों एवं स्वयं को सुरक्षित रखने के बारे में जानकारी प्रदान किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा पुलिस के आधुनिकीकरण एवं पुलिस अधिकारियों को मजबूत व्यवस्था तैयार करने पर विशेष जोर दिया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से ऑनलाइन साइबर अपराध पंजीकृत, क्षमता निर्माण, जागरूकता निर्माण, अनुसंधान एवं विकास इकाइयों को शुरू करने का लक्ष्य तैयार किया गया है।
  • इस योजना के तहत राज्य के स्कूली बच्चों को ‘सामुदायिक पुलिसिंग’ प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। जिससे बच्चे भी पुलिस की साइबर सेल में मदद कर पाएंगे।
  • बच्चों को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए प्रत्येक जिले के 10 स्कूलों को शामिल किया जाएगा।
  • साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के माध्यम से बच्चों एवं महिलाओं को साइबर क्राइम से बचाने के लिए जागरूक किया जाएगा।
  • राज्य में बढ़ते साइबर क्राइम के अपराधियों को कम करने में इस योजना की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी।

झारखण्ड भूलेख झारभूमि पोर्टल

महिलाओं और बच्चों के लिए साइबर अपराध की रोकथाम के 5 घटक

राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में बढ़ते साइबर क्राइम अपराध को रोकने के लिए पांच कंपोनेंट्स (घटक) रखे गए हैं जो निम्नलिखित है –

  • ऑनलाइन साइबर क्राइम रिपोर्टिंग यूनिट
  • क्षमता निर्माण इकाई
  • फॉरेंसिक यूनिट
  • जागरूकता निर्माण इकाई
  • अनुसंधान एवं विकास इकाई

ऑनलाइन साइबर क्राइम रिपोर्टिंग यूनिट

नागरिकों को साइबर अपराध से बचाने के लिए ऑनलाइन साइबर क्राइम रिर्पोटिंग पोर्टल को शुरू किया गया है। जो सीसीटीएनएस परियोजना का केंद्रीय नागरिक पोर्टल है। इस पोर्टल पर साइबर क्राइम कंप्लेंट दर्ज की जाएगी। साइबर अपराध का शिकार हुए नागरिक इस ऑनलाइन पोर्टल पर शिकायत दर्ज कर सकते है।

क्षमता निर्माण इकाई

इस इकाई के द्वारा राज्य में अपराधों को समाप्त करने के लिए राज्य की पुलिस बलों, अभियोजकों न्यायिक अधिकारियों एवं अन्य संबंधित हित धारकों के क्षमता निर्माण का कार्य किया जाएगा। जिससे अपराधिक मामलों के निवारण पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

फॉरेंसिक यूनिट

इस इकाई के माध्यम से एक राष्ट्रीय साइबर फॉरेंसिक लैब का संचालन किया जाएगा। जो दिन के 24 घंटे और साल के 365 दिन कार्य करंगे। इस फॉरेंसिक इकाई में देशभर के साइबर सिक्योरिटी विशेषज्ञ द्वारा साइबर क्राइम अपराधियों को कम करने में सहायता किया जाएगा I जिससे साइबर अपराधिक मामलों की शिकायतों का जल्द से जल्द निवारण किया जा सकेगा।

जागरूकता निर्माण इकाई

इस इकाई के माध्यम से लोगों के बीच साइबर क्राइम को लेकर जागरूकता फैलाने का कार्य किया जाएगा। ताकि राज्य के बच्चों, युवाओं एवं महिलाओं को साइबर अपराधों से बचाया जा सके। राज्य के स्कूलों में भी बच्चों को जानकारी और प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। जिससे वह भविष्य में साइबर अपराधों का शिकार होने से बच सकें।

अनुसंधान एवं विकास इकाई

सरकार द्वारा साइबर क्राइम के क्षेत्र में शोध (रिसर्च) करने के लिए अनुसंधान एवं विकास इकाई को शुरू किया गया है। जिसके माध्यम से साइबर अपराध के क्षेत्र में शोध करके साइबर क्राइम एक्ट में संशोधन किया जाएगा। इसमें नई तकनीकों (टेक्नोलॉजी) को भी विकसित किया जाएगा। ताकि साइबर क्राइम को रोकने में कोई कमी ना रहे। 

झारखण्ड राशन कार्ड लिस्ट

झारखण्ड साइबर क्राइम के अंतर्गत शामिल किये गए अपराधों की सूची

झारखंड साइबर क्राइम के अंतर्गत सभी अपराधों के विवरण निचे दी गयी है –

  • बैंकिंग,क्रेडिट कार्ड संबंधित अपराध
  • निवेश धोखाधड़ी
  • साइबर स्टैकिंग
  • जालसाजी
  • अनाधिकृत पहुंच और हैकिंग
  • साइबर आतंकवाद
  • ट्रोजन अटैक
  • सेवा हमलों का इनकार 
  • आईपीआर उल्लंघन
  • वायरस और कृमि का हमला 
  • चोरी की पहचान
  • कंप्यूटर स्रोत दस्तावेजों के साथ छेड़छाड़
  • डेटा डिडलिंग
  • स्रोत कोड चोरी
  • पोर्नोग्राफी
  • स्मार्टफोन के जरिये किए गए जटिल साइबर अपराध
  • सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, यूट्यूब, इंस्टाग्राम आदि का दुरुपयोग होने से गंभीर परिणाम हो सकते हैं
  • गोपनीयता और गोपनीयता का उल्लंघन एवं कंप्यूटर से संबंधित अन्य अपराध
  • ई-मेल संबंधी अपराध (मानहानिकारक ईमेल, ईमेल धोखाधड़ी, ईमेल स्पूफिंग, ईमेल स्पैमिंग, ईमेल बमबारी, धमकी भरे ईमेल भेजना)

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के पात्रता एवं दस्तावेज

  • आवेदन करने वाला झारखंड राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के लिए आवेदन कैसे करें

यदि आप झारखंड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए इच्छुक है तो इसके लिए अभी आपको कुछ समय इंतजार करना होगा। क्योंकि सरकार द्वारा अभी केवल इस योजना को आरंभ करने की घोषणा की गई है। अभी कोई भी आवेदन प्रक्रिया या ऑफिशियल वेबसाइट लॉन्च नहीं किया गया है। जैसे ही सरकार द्वारा Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana 2022 से संबंधित कोई अधिकारिक नोटिस जारी की जाती है। हम आपको इस लेख में अपडेट करके बता देंगे। 

Conclusion

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको केंद्र सरकार के NCCRP Poral के तर्ज पर बने झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2022 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी है। उम्मीद करते है कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको इस योजना से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो कृपया इसे अन्य लोगों के साथ भी अवश्य शेयर करें। धन्यवाद !

FAQ – Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana 2022

प्रश्न 1. साइबर क्राइम प्रिपेंशन योजना के माध्यम से कौन-कौन से साइबर अपराधों को रोका जा सकेगा?

उत्तर. इस योजना के माध्यम से सभी ऑनलाइन अपराध जैसे – क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड फ्रॉड, ऑनलाइन जॉब, साइबर बुलिंग, साइबर स्टैकिंग, वायरस, जालसाजी, हैकिंग, फिशिंग, ट्रोजन अटैक, ईमेल संबंधी अपराध, स्मार्टफोन के जरिये किए गए जटिल साइबर अपराध आदि कई अन्य साइबर अपराधों को रोकने का कार्य किया जायेगा। 

प्रश्न 2. Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के लाभ क्या है?

उत्तर. इस योजना के माध्यम से राज्य के नागरिकों को साइबर अपराधों से सुरक्षा प्रदान किया जाएगा एवं साइबर अपराधिक मामलों की शिकायतों का जल्द से जल्द निवारण किया जाएगा। साथ ही बच्चों एवं महिलाओं को साइबर अपराधों से बचने के लिए प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा।

Leave a Comment

x