Ganna Bhav 2024 (गन्ने का रेट): गन्ना किसानों के लिए खुशखबरी, MSP में 10 रूपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी का एलान

Ganna Bhav 2023-24 (ग्रन्ना मूल्य / गन्ने का रेट): गन्ना किसानों के लिए खुशखबरी है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के अध्यक्षता में की गई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में गन्ने की MSP यानि न्यूनतम समर्थन मूल्य में ₹10 प्रति क्विंटल बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (सीएसीपी) द्वारा पहले से ही सरकार को इसकी सिफारिश भेजी जा चुकी थी। जिसके बाद अब सरकार ने भी इस सिफारिश पर अपना मुहर लगा दिया है। चलिए आगे हम आपको गन्ना मूल्य (Sugarcane Price) के बारे में विस्तार से जानकारी देते है।

Ganna Bhav 2023-24

Ganna Bhav 2024 | गन्ने का रेट

जैसा कि मैंने ऊपर आपको बताया कृषि लागत एवं मूल्य आयोग की सिफारिश के बाद सरकार द्वारा गन्ने का उचित और लाभकारी मूल्य गन्ना सीजन 2023-24 के लिए ₹10 की बढ़ोतरी की गई है। 2022 में गन्ने की एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) ₹305 किया गया था। जिसके बाद अब नए सत्र में गन्ना मूल्य ₹315 प्रति क्विंटल कर दी गई है। सरकार द्वारा बढ़ाई गई एमएसपी को नए गन्ना सत्र यानी 1 अक्टूबर 2023 से लागू किया जाएगा।

हम आपको बता दें कि पिछले 9 सालों में गन्ने के रेट में 109 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हुई है। साल 2021 में सरकार द्वारा गन्ने के MSP में ₹5 की बढ़ोतरी करके गन्ने का मूल्य ₹290 प्रति क्विंटल कर दिया गया था। इसके बाद पिछले साल यानी 2022 में ₹15 की वृद्धि कर ₹305 कर दिया गया था। 

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

अगर गन्ने की खरीदारी का आंकड़ा देखा जाए तो वर्ष 2013-14 में गन्ने की खरीदारी करीबन 57 हजार 104 करोड़ रुपए की हुई थी। जबकि वर्ष 2022-23 का आंकड़ा देखें तो कुल 1 लाख 13 हजार करोड़ रुपए की खरीदारी हुई है। पिछले 9 वर्षों में काफी इजाफा देखने को मिला है।

उत्तर प्रदेश गन्ना पर्ची

गन्ना पर्ची मोबाइल ऐप

किसान क्रेडिट कार्ड योजना

पशु क्रेडिट कार्ड योजना

FRP (एफआरपी) क्या होता है

FRP (Fair & Remunerative Price) सरकार द्वारा गन्ना किसानों के लिए निर्धारित की गई एक ऐसी न्यूनतम मूल्य है जिस पर चीनी मिलों को किसानो से गन्ना खरीदना होता है। एफआरपी का हिंदी अर्थ उचित और लाभकारी मूल्य होता है। कमीशन ऑफ़ एग्रीकल्चर कॉस्ट एंड प्राइसेज (CACP) द्वारा हर वर्ष एफआरपी की सिफारिश किया जाता है। जिस पर विचार करके सरकार द्वारा गन्ना नियंत्रण आदेश 1966 के तहत एफआरपी तय की जाती है।

कुछ राज्यों को नहीं मिलेगा लाभ

सरकार द्वारा दी जाने वाली एफआरपी में वृद्धि का लाभ देश के सभी गन्ना किसानों को नहीं मिलेगा। हम आपको बता दें कि कुछ सूबों में पहले से ही सरकार द्वारा तय की गई गन्ना भाव से ज्यादा भाव पर मिल रहा है। क्योंकि कुछ सूबों में स्टेट एडवाइजरी प्राइस (एसएपी) लागू होता है। यह राज्य अपने स्तर पर गन्ने का भाव तय करती है। इनमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब मुख्य तौर पर शामिल है। उत्तर प्रदेश में इस समय गन्ने का मूल्य 350 रुपए प्रति क्विंटल है वहीं पंजाब में ₹380 और हरियाणा में ₹372 प्रति क्विंटल का भाव चल रहा है।

हम आपको बताते चलें कि भारत चीनी निर्यात करने वाला पूरी दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा देश है। साथ ही भारत गन्ना उत्पादन के मामले में भी सबसे आगे है। ऐसे में गन्ने पर एमएसपी (MSP) की बढ़ोतरी से गन्ना किसानों को काफी लाभ होगा और उनकी आय में वृद्धि होगी। भारत की अर्थव्यवस्था में गन्ना उत्पादन की भी एक अहम भूमिका रही है। 

Ganna Bhav 2024 से जुड़े कुछ प्रश्न और उत्तर (FAQs)

प्रश्न 1. 2024 में गन्ने का रेट क्या होगा?

उत्तर हाल ही में सरकार द्वारा गन्ना सीजन 2023 24 के लिए गन्ने के रेट में ₹10 की बढ़ोतरी की गई है यानी वर्ष 2023 में गन्ने का रेट ₹315 प्रति क्विंटल होगा।

प्रश्न 2. इस वर्ष यूपी में गन्ने का रेट क्या होगा?

उत्तर. यूपी गन्ना रेट 2023-24 में ₹350 प्रति क्विंटल होगा।

Leave a Comment

error: Content is protected !!