बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना – 2022 | Beti bachao beti padhao (BBBP) Yojana Poster in Hindi 2022 | BBBP Benefit

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम क्या है? | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम की शुरुआत कब हुई ? | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पोस्टर | Beti bachao beti padhao (BBBP) Scheme in hindi 2022 |

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को की गयी थी। केंद्र सरकार द्वारा इस योजना द्वारा बेटियों के प्रति समाज में होने वाले नकारात्मक रवैया के प्रति जागरूकता फैलाना व भविष्य को अच्छा बनाने व उनके कल्याण के लिए तमाम योजनाओं को शुरू को क्रियान्वित करना है। इसी कड़ी में सरकार द्वारा बेटियों के लिए कहीं योजनाओं को शुरू किया है।

Beti bachao beti padhao

अक्सर आपने देखा होगा कि आप यदि इंटरनेट पर बेटी बचाओ बेटी-पढ़ाओ कार्यक्रम 2022 के बारे में सर्च किया होगा, तो आपको आर्टिकल में सुकन्या योजना के बारे में जानकारी मिलेगी। इस योजना के उदेश्य क्या है, इसका लाभ आप कैसे ले सकते है। इसके अलावा इस आर्टिकल में हम आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही मुहीम के बारे में बताएँगे।

Beti bachao beti padhao (BBBP) 2022

आज के आर्टिकल में हम बेटी बचाओ बाटी पढ़ाओ के बारे में विस्तार से बताएँगे। बेटियों परिवार, क्षेत्र व देश की शान होती है, आज बेटियां वे सभी कार्य करती है, जिन्हे पुरुष कर सकते है। वह चाहे युद्धक विमान (फाइटर प्लेन) चलाना हो, या कोई भी मुश्किल कार्य।

बेटियाँ हर एक क्षेत्र में बराबर की सहभागिता निभा रही है। लेकिन फिर भी समाज के कुछ क्षेत्रों में जागरूकता की कमी के कारण उन्हें वे अधिकार नहीं मिल पते जो उन्हें मिलने चाहिए, उनके साथ भेदभाव किया जाता है। समाज के कुछ क्षेत्रो में होने वाले इस भेदभाव को दूर करने के लिए सरकार द्वारा समय समय पर इसके लिए जागरूकता अभियान चलाया जाता है। इसी में से एक अभियान है, बेटी बचाओ अभियान। तो आइये इसके बारे में बात करते है।

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ (Bpbb) – 2022

सरकार द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (BBBP) को तीन समूह में बांटकर लागू किया गया है। प्रथम स्तर पर माता पिता 

  • प्रथम समूह में स्कूल के माध्यम से माता पिता को शामिल किया गया है।
  • दूसरे ग्रुप में डॉक्टर, नर्सिंग, हॉस्पिटल व ससुराल वालों को शामिल किया गया है।
  • जबकि तीसरे ग्रुप में इसके प्रचार व प्रसार को मुख्य रूप से रखा गया है। जिनमे अधिकारी, राजनितिक कार्यकर्त्ता, सेल्प हेल्प ग्रुप, मीडिया, एनजीओ आदि को शामिल किया गया है।

Beti bachao beti padhao (BBBP) Overview 2022

योजना का नाम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना। 
विभाग का नाम महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ,स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास मंत्रालय का सयुंक्त अभियान।
किसने शुरू कीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।
कब शुरू हुई 22 जनवरी 2015
आधिकारिक वेबसाइट Beti bachao beti padhao
उदेश्य बेटियों के लैंगिक भेदभाव को समाप्त करना 
व शिक्षा को सुनिश्चित कराना व समाज में भागीदारी सुनिश्चित कराना आदि।

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम क्या है?

दोस्तों भारत में लिंगानुपात (प्रति हजार पुरुष पर महिलाओं की संख्या) हमेशा से ही गंभीर समस्या रही है। इसका मुख्य कारण यह है, समाज में लड़कियों को उस नजर से नहीं देखा जाता है, जिस नजर से लड़को को देखा जाता है। कही बार लड़कियों को गर्भ में ही समाप्त करने की भी घटनाये होती रही है। 2011 की जनगणना के अनुसार भारत में बाल लिंगानुपात (918/1000) अब तक का सबसे कम रहा है।

Bihar Ration Card List

यही कारण है कि सरकार को इसमें आगे आना पढ़ा और समाज को लड़कियां भी लड़को से कम नहीं होती है। लड़कियों के प्रति जागरूकता समाज में फैलाने के लिए एक मुहीम चलनी पढ़ी। सरकार द्वारा इस कार्यक्रम के तहत गर्भ में लड़कियों की गर्भ में हत्या व जन्म पश्चात् लड़कियों के साथ होने वाले भेदभाव जैसी गंभीर समस्या को दूर करना है। इस योजना को केंद्र सरकार के चार मंत्रालयों महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ,स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा सयुंक्त रूप से चलायी जा रही है।

नेशनल करियर सर्विस पोर्टल

बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना (BBBP) कब शुरू हुई?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत से  Beti bachao beti padhao शुरुआत की थी। उन्होंने योजना को लॉन्च करते समय कहा कि आइये हम सभी कन्या का उत्सव मनाते है। हमें बेटियों पर भी बेटो की ही तरह गर्व करना चाहिए। में देश के सभी नागरिको से अनुरोध करता हूँ कि बेटी के जन्म दिवस (जन्मोत्सव) में 5 पेड़ो को लगाए।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जयानगर गॉव को गोद लिया है। पानीपत के इसी गांव से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस योजना की शुरुआत की थी। सरकार द्वारा बेटियों के प्रति समाज में जागरूक करने के लिए सरकार द्वारा जगह जगह Beti bachao beti padhao poster लगवाए गए। 

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (Beti bachao beti padhao scheme) के मुख्य बिंदु

  • BBBP को सरकार द्वारा चरणबद्ध तरीके से लागू किया गया। प्रथम चरण में सरकार द्वारा 100 जिलों में इसे लागु किया गया। 
  • सरकार द्वारा बेटियों के अधिकार के प्रति जागरूक करने के लिए समय समय पर beti bachao beti padhao poster भी जारी किये जाते है, जिसे अलग अलग माध्यम से दिखाया जाता है। इससे समाज में बेटियों के प्रति जागरूकता फैलाई जा सके। 
  • चयनित जिलों में 23 राज्यों के 87 जिलें ऐसे थे, जिनका लिंगानुपात राष्ट्रिय लिंगानुपात से कम था।
  • और 8 राज्यों के 8 ऐसे जिलों में विशेष ध्यान दिया गया जहाँ लड़कियों के जन्म की दर में कमी आयी थी। 
  • सरकार द्वारा 5 ऐसे जिलों का चयन भी किया जिन्हे उदहारण के रूप में (मॉडल) पेश कर सकें। 
  • इन पांच जिलों में बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिले। इन जिलों में लिंगानुपात में काफी बृद्धि देखने को मिली। 
  • अगले चरण में सरकार द्वारा 11 राज्यों में से 61 ऐसे जिलों का चयन किया गया जहाँ का लिंगानुपात 918/1000 से काम था। 
उत्तराखंड कनिष्ठ अभियंता भर्ती

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (BBBP) के उद्देश्य

  • Beti bachao beti padhao yojana सरकार द्वारा समाज में केवल जागरूकता फ़ैलाने के लिए शुरू की गयी एक योजना है। जिसके अंतर्गत सीधे तौर पर आर्थिक लाभ नहीं मिलता है। 
  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम में सरकार द्वारा लड़कियों के साथ होने वाले भेदभाव वाले रवैये को समाप्त करना है।
  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में सरकार द्वारा बेटियों के जन्मोत्सव में 5 पौधों का बृक्षारोपण के लिए बढ़ावा दिया जाना है।
  • बेटियों की शिक्षा पर विशेष ध्यान देना है। जिससे कोई भी बेटी निरक्षर न रह जाए।
  • समाज में बेटियों को जिम्मेदार बनाकर उनकी भागीदारी सुनिश्चित कराना है।
  • बेटियों के प्रति समाज में होने वाले लैंगिक भेद को समाप्त करना है।
  • बालिकाओं के होने वाले शोषण से बचाना व सही गलत का ज्ञान कराना।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अंतर्गत शुरू की गयी योजनाएं

BBBP योजना का सीधा सम्बन्ध किसी पैसे या अन्य जमा से नहीं है। इसमें सरकार का मुख्य उदेश्य समाज में लड़कियों के प्रति जागरूकता जागृत करना है। लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से अन्य योजनाओ को BBBP के तहत लाया गया है जिनके द्वारा बेटियों के भविष्य को लेकर कुछ सेविंग के लिए प्रेरित (Motivate) हो। ऐसी ही कुछ प्रमुख योजनाएँ निम्न है। 

  • सरकार चाहती है, कि बेटी जब जन्म लेती है, उसके माता पिता उसी समय से कुछ न कुछ बेटी के नाम से जमा करें। जो उनके भविष्य में पढाई या शादी के लिए काम आएंगे। तभी सकरार द्वारा Beti bachao beti padhao योजना को ध्यान में रखते हुए, कहीं योजनाए लायी है। जिसमे यदि माता पिता बेटी के भविष्य के लिए कुछ सेविंग करते है, तो उन्हें अच्छा रिटर्न (समय अवधि पूरी होने पर मिलने वाला पैसा) मिलें। 
  • इन योजनाओं में सुकन्या समृद्धि, लाड़ली लक्ष्मी योजना, बालिका समृद्धि योजना, व धनलक्ष्मी योजना आदि प्रमुख है। इन सभी योजनाओं में से सुकन्या समृद्धि योजना को सरकार द्वारा BBBP योजना को ध्यान में रखते हुए लाया गया है। इसके तहत 0 से 10 वर्ष तक की लड़की का इसमें खाता खुलवावा जाता है। कुल 14 वर्ष तक मासिक या सालाना पैसा जमा किया जाता है। सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप यहां क्लिक कर सकते है। 

BBBP जमा योजनाओं हेतू आवश्यक दस्तावेज

बेटियों का भविष्य सुरक्षित रहे, उनकी पढाई – लिखाई पूरी हो, एवं किसी भी भेदभाव की शिकार न हो इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा बेटियों के भविष्य के लिए विशेष जमा योजनाए शुरू की है। Beti ke bhavishy के लिए अभिभावकों को जमा के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा कुछ विशेष योजनाए शुरू की है।

इन योजनाओं में कुछ निम्न है, जैसे – तो सुकन्या समृद्धि, लाड़ली लक्ष्मी योजना, बालिका समृद्धि योजना, व धनलक्ष्मी योजना जैसी योजनाएं शुरू की गयी है। आप इन योजनाओ के तहत खाता खुलवाने के लिए नजदीकी बैंक व पोस्ट ऑफिस जाकर खुलवा सकते है। जिनके लिए आपको (माता पिता के) निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

सरल पोर्टल हरियाणा
  • आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए।
  • पेन कार्ड की प्रति।
  • नवीनतम फोटोग्राफ।
  • एक्टिव मोबाइल नंबर।
  • मतदाता पहचान पत्र।
  • सरकारी विभाग द्वारा जारी ID

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना नया अपडेट – 2022

सरकार द्वारा ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना को 22 जनवरी, 2015 को शुरू की गयी थी। लेकिन हाल ही में इस योजना को लेकर महिला सशक्तिकरण समिति की एक नवीनतम रिपोर्ट आयी है। इस रिपोर्ट में कहा गया कि सरकार द्वारा जारी की गए पैसे का सही उपयोग नहीं हुआ। समिति ने इसे लेकर निराशा जाहिर की है, और कहा कि योजना के तहत जारी फण्ड का 80 प्रतिशत पैसा केवल इसके विज्ञापन में खर्च किया गया।

इस समिति की अध्यक्षता महाराष्ट्र से भाजपा सांसद हीना विजयकुमार ने की। हाल ही में इस रिपोर्ट को लोकसभा में पेश किया गया है।रिपोर्ट में बताया गया कि योजना के तहत शुरू से लेकर 2019-20 तक कुल 848 करोड़ मंजूर हुए थे। एवं 2021-21 वित्त वर्ष में इस योजना के लिए राज्यों के लिए केंद्र सरकार द्वारा 622.48 करोड़ रूपये जारी किये गए थे।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना हेतु आवेदन ?

यदि आप Beti Bachao Beti Padhao yojana के लिए आवेदन करना चाहते है, तो आप नीचे दिए प्रोसेस को फॉलो करके इसका लाभ उठा सकते है।

  • bbbp scheme का लाभ लेने के लिए आप सबसे पहले भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ।
  • होम पेज पर आने के बाद आप वूमेन एम्पावरमेंट स्कीम विकल्प पर क्लिक करें।
  • वूमेन एम्पावरमेंट स्कीम विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज आ जायेगा।
  • नए पेज पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से संबधित सभी नए अभियान व योजनाओं के बारे में आपको विस्तार से जानकारी मिल जाएगी।
  • यहां आपको सम्पूर्ण विज्ञापन मिल जायेगा। विज्ञापन हिंदी व इंग्लिश दोनों भाषाओँ में उपलब्ध करवाया है। आप इसका सम्पूर्ण अध्यन करके योजना का लाभ उठा सकते है।
शाला दर्पण राजस्थान

हेल्पलाइन नंबर / टोल फ्री नंबर

हमने आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाने की कोशिश की है। लेकिन फिर भी यदि आपको इसे समझने में समस्या आ रही है तो आप नीचे दिए गए टोल फ्री/हेल्पलाइन नंबर व ईमेल आईडी पर संपर्क करके जानकारी ले सकते है।

टोल फ्री नंबर 011-23388612
ईमेल आईडी [email protected]
कांटेक्ट लिंक click here

FAQ

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना कब शुरू की गयी थी ?

Beti bachao beti padhao (BBBP) की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को की गयी थी। 

x
error: Content is protected !!