(E Dharti) अपना खाता राजस्थान – 2022 Land Record, Rajasthan Bhulekh, *apnakhata.raj.nic.in* भूलेख राजस्थान

राजस्थान ऑनलाइन जमाबंदी 2022, खाता खसरा नकल, अपना खाता कैसे देखें, अपना खाता नकल जमाबंदी

राजस्थान ऑनलाइन जमाबंदी 2022(E Dharti) : दोस्तों आज देश के लगभग सभी राज्यों द्वारा अपने राज्य के भूमि के रिकॉर्ड देखने के लिए अपना भूलेख पोर्टल बनाया है। जैसे उत्तर प्रदेश सरकार का भूलेख, उत्तराखंड का देवभूमि, महाराष्ट्र का महाभूमि आदि। ऐसे ही राजस्थान राज्य द्वारा E Dharti (अपना खाता पोर्टल) राजस्थान बनाया गया है। जिसके माध्यम से राज्य के सम्पूर्ण भूमि का रिकॉर्ड घर बैठे आसानी से देखा जा सकता है। सरकार द्वारा चलाई जा डिजिटल इंडिया मुहीम का असर सभी राज्यों के सरकारी कामकाजो में भी दिखने लगा है।

दोस्तों आज देश के लगभग सभी राज्यों द्वारा अपने राज्य के भूमि के रिकॉर्ड देखने के लिए अपना भूलेख पोर्टल बनाया है। ऐसे ही राजस्थान राज्य द्वारा अपना खाता पोर्टल राजस्थान बनाया गया है। जिसके माध्यम से राज्य के सम्पूर्ण भूमि का रिकॉर्ड घर बैठे आसानी से देखा जा सकता है।

ये भी पढ़े – भूलेख हरियाणा पोर्टल

सरकार द्वारा चलाई जा डिजिटल इंडिया मुहीम का असर सभी राज्यों के सरकारी कामकाजो में भी दिखने लगा है। आप इन दस्तावेजों हेतु कैसे आवेदन करे या डाउनलोड करें, विस्तार से जानकारी के लिए कृपया पूरा आर्टिकल पढ़े।

E Dharti अपना खाता राजस्थान हाइलाइट्स 2022

नाम अपना खाता राजस्थान / E Dharti portal 
विभाग राजस्व मंडल राजस्थान
किसकी योजना है। राजस्थान सरकार की। 
लाभार्थी राजस्थान के नागरिक। 
उदेश्य घर बैठे जमीन व अन्य दस्तावेज उपलब्ध करवाना। 
आधिकारिक वेबसाइट अपना खाता राजस्थान। 

Apna khata Rajasthan land record 2022

राजस्थान सरकार द्वारा राज्यों के निवासियों के जमीन रिकॉर्ड संबधित कार्य को बहुत आसान बना दिया गया है। अब लोगो को अपने जमीन से जुड़े कोई भी छोटे या बड़े कार्य के लिए तहसील या पटवारी के कार्यालय के बेवजह चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। लोग अब आसानी से apnakhata.raj.nic.inपोर्टल से भूलेख जमाबंदी की जानकारी घर से बड़े आसानी से प्राफ्त कर सकते है। इससे अनावश्यक तहसील जाने के समय में भी बचत होगी।

ये भी पढ़ें – उत्तर प्रदेश भू नक्शा। 

राजस्थान अपना खाता पोर्टल का उदेश्य। 

E dharti Rajasthan पोर्टल / अपना खाता को विकसित करने के पीछे सरकार का विशेष उदेश्य था। इससे प्रदेश के लोगो को उनकी जमीन से जुडी सभी जानकारियां इस ही प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करायी जाएगी। लोगों को तहसील व पटवारी के पास कहीं चक्कर लगाने पड़ते थे।

लोगो को कहीं बार रिश्वत भी देनी पड़ती थी। इस प्रकार समय की काफी बचत हुई है। रिश्वत आदि से भी मुफ़्ती मिली है। इससे सीधे लोगों को काफी फायदा मिला है। लोग अपनी खतौनी, खसरा आदि का विवरण आसानी से ऑनलाइन निकल सकते है। विभिन्न दस्तावेजों हेतु शुल्क निम्न है –

दस्तावेज का नामपरिमाण शुल्क
जमाबंदी प्रतिलिपियदि आपको 0 से 10 खसरा नंबर तक निकलना है तो 10 रुपये और उसके बाद उसके बाद प्रति अतिरिक्त 10 खसरा नंबर के लिए उसके भाग के लिए 5 रुपये देने होंगे। 
नक्शा प्रतिलिपिप्रति 10 खसरा नंबर या उससे अधिक के भाग के लिए 20 रूपये। 
नामांतरण पी21प्रति नाम बदलने के लिए 20 रूपये का शुल्क लगता है। 

Rajasthan E Dharti पोर्टल के लाभ

राजस्थान सरकार का जमा खाता (e dharti portal) शुरू करने का उदेश्य राज्य के निवासियों को घर बैठे ऑनलाइन लैंड रिकॉर्ड उपलब्ध करवाना है। edharti पोर्टल के आने से अब राज्य का किसान, मजदुर किसी भी वर्ग का व्यक्ति अपने जमीन का डेटा आसानी से देख सकते है। इसका सीधा लाभ राज्य के लोगो को मिल रहा है।

  • apna khata portal पर राजस्थान का व्यक्ति खतौनी संख्या व खसरा संख्या का पता लगा सकता है।
  • इस सुविधा का की जरुरत किसानों को अक्सर पड़ती है। किसानो को बैंक से ऋण लेना हो या अपने जमीन की पहचान करनी हो। खसरा सांख्य की जरुरत पड़ती रहती है। इस पोर्टल से अब उन्हें काफी आसानी हो जाती है।
  • लोगो को तहसील में होने वाली रिश्वतखोरी से मुफ़्ती मिल गयी है।
  • तहसील में कहीं बार चक्कर लगाने पड़ते थे, अब उन्हें यह सुबिधा घर बैठे आसानी से मिल जाती है। समय की भी बचत होगी।
  • किसान अपनी खतौनी को देख सकता है कि बैंक का कोई ऋण तो नहीं चल रहा है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र में अक्सर धोकाधड़ी के मामले भी सामने आते है। इससे किसान अपनी खतौनी देखकर आसानी से पता कर सकते है।

राजस्थान जमाबंदी नकल ऑनलाइन कैसे देखें

यदि आप राजस्थान के रहने वाले है और आपको अपना खाता पोर्टल को ऑनलाइन देखने में समस्या आ रही है तो नीचे दी गयी स्टेप को फॉलो करके आसानी से देख सकते है।

  • आप सबसे पहले राजस्थान सरकार के अपना खाता पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाए।
e dharti
  • आधिकारिक वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ पर जाने के बाद आप अपना जिला चुने। अपना जिला चुनने के बाद अब आपके सामने आपके गए जिले का नक्शा आ जायेगा। नक़्शे के बायीं ओर तहसील की सूची आ जाएगी।
apna khata
  • तहसील की सूची से अपनी तहसील चुने। अपनी तहसील चुनने के बाद आप अब अगले पृष्ठ पर आ जायेंगे।
apna khata raj
  • अब आपको जमाबंदी / नामांतरकरण की प्रतिलिपि के लिए अपने गॉव का चयन करना है।
e dharti 1
  • दोस्तों अब आप आवेदक के लिए जानकारी वाले भाग में मांगी गयी जानकारी को सावधानी पूर्वक भरें।
  • अब आपको अगले विकल्प का चयन करना है। यह आपको नक़ल जारी करने वाले सेक्शन को चुनना है।
  • अब आप किसके माध्यम से जानकारी प्राप्त करना चाहते है। आपके पास खाता संख्या, usn/grn या खसरा संख्या में से जो भी उपलब्ध है, उसका चयन करें।
  • आपने जो भी विकल्प चुना है, उसका चयन करने के बाद अब आपको उसे डालने का विकल्प आएगा। कृपया संख्या दर्ज करें।
  • विवरण भरने के बाद सबमिट बटन को दबाये। इस प्रकार आप जमीन से संबधित जानकारी e-dharti portal से प्राप्त कर सकते है।

ये भी पढ़ें – भूलेख पंजाब

भूलेख अभिलेखों से संबधित टर्म

दोस्तों हम जमाबादी राजस्थान पोर्टल से जमाबंदी नक़ल, खसरा, खतौनी, भूलेख / भूमि अभिलेख एवं नक्शा आदि प्रिंट एवं डाउनलोड कर सकते है।

खतौनी (khatoni)- खतौनी जमीन के एक निश्चित हिस्से को कहा जाता है। निश्चित हिस्से का मालिक कौन है, उस हिस्से में परिवार के मुखिया का नाम दर्ज होता है। उनके नहीं रहने पर ये नाम उनके बच्चो के नाम स्थानांतरित हो जाता है।

नक़ल (jamabandi nakal)- नक़ल का मतलब कॉपी या डुप्लीकेट प्रति होता है। किसी भी अभिलेख का वैसी ही दूसरी प्रति को हिंदी में नक़ल कहा जाता है।

जमाबंदी (jamabandi) – गांव में लैंड रिकार्ड्स के डेटा को दर्शाने वाले डेटा को जमाबंदी कहा जाता है। जमाबंदी भूमि में विभिन्न लोगो जैसे मालिक, उस एरिया आदि अधिकार शामिल है।

भूलेख / भू – अभिलेख (bhulekh / land record)- भूलेख किसी भी सरकार द्वारा जमीन / लैंड के रिकॉर्ड के लिए बनाया गया एक ऑनलाइन पोर्टल होता है, जहां से कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन कहीं से भी भूमि की जानकारी प्राप्त कर सकता है।

नक्शा (naksha) – जमीन का नक्शा यह दर्शाता है कि इसकी भौगोलिक स्थिति क्या है। भूमि संबधी अन्य सभी जानकारी भी भू नक्शा में उपलब्ध करवाई जाती है।

खसरा (khasara)– खसरा खेती की जमीन के एक हिस्सा जिस पर कौन से सीजन में क्या फसल बोई जाती है, उसका सम्पूर्ण विवरण होता है। जिसे सरकार द्वारा आधिकारिक रूप से अपने दस्तावेजों में दर्ज किया जाता है। उस पट्टी पर कौन सी फसल बोई जाती है, कृषि भूमि है या बंजर। खेती की जाती है या वहां पर पेड़ उगाये जाते है। आदि सम्पूर्ण विवरण दिया रहता है।

ये भी पढ़ें – भूलेख बिहार

अपना खाता (e-dharti ) पोर्टल किस राज्य से संबधित है ?

अपना खाता पोर्टल राजस्थान राज्य से संबधित है। राजस्थान सरकार द्वारा राज्य के भुमि डाटा को देखने के लिए अपना खाता पोर्टल (e-dharti) पोर्टल को बनाया गया है।

x
error: Content is protected !!