स्वयं सहायता समूह 2022 | Self help Group (SHG) क्या है? | समूह कैसे बनाएं | Benefit, Eligibility, Online Apply

स्वयं सहायता समूह में कितने सदस्य होते हैं | स्वयं सहायता समूह के लाभ, लोन की जानकारी | SHG के सदस्य केसे बनें | Self help groups in hindi | स्वयं सहायता समूह लोन आवेदन ऑनलाइन | समूह कैसे बनाएं 2022

SHG यानि Self Help Group कुछ समान आय वर्ग के ऐसे लोगो का एक समूह (group) होता है। जो किसी विशेष उदेश्य को पूरा करने के लिए बनाये जाते है, ये छोटे – छोटे समूह आपस में एक दूसरे की सहायता के लिए ही बनाये जाते है, समूह में सभी सदस्य अपनी मर्जी से शामिल हो सकते है। ये किसी अन्य के ऊपर निर्भर नही रहते है, बल्कि ये अपनी सहायता स्वयं (खुद) करते है। जैसा कि इसका नाम है, स्वयं सहायता यानि जो अपनी सहायता खुद करते है। इस प्रकार के समूह में 10 से 20 सदस्य होते है, ये सभी सदस्य स्वेछा से इसमें शामिल हो सकते है।

स्वयं सहायता समूह क्या है?

इसमें चयनित सभी सदस्य एक समान आय वर्ग के होते है। महिला स्वयं सहायता समूह में महिलाएं को शामिल किया जाता है। इसमें सभी सदस्यों द्वारा मासिक आधार पर एक बराबर राशि तय की जाती है, जिसे पदाधिकारियों के पास जमा को अपने रजिस्टर में दर्ज करते है। उसके बाद उस बचत को अपने नजदीकी बैंक में जमा करते है। जहाँ उन्होंने समूह के नाम से बचत खाता खुलवाया है। बचत खाते का संचालन समूह के पदाधिकारियों द्वारा किया जाता है।

समूह के किसी भी तीन सदस्यों को पदाधिकारी नियुक्त किया जाता है। जो समूह का संचालन करते है। किसी भी लेन देन का ब्यौरा रखते है। बैंक द्वारा कम ब्याज दर पर ऋण भी लिया जाता है। इस आर्टिकल में हम NRLM SHG के बारे में जानेंगे। कृपया पूरा आर्टिकल पढ़े।

कोविड-19 महामारी में DAY-NRLM SHG की भूमिका

कोविड महामारी के दौरान जहाँ लाखो करोड़ो लोगो के रोजगार चले गए। ऐसे समय में भारत में स्वयं सहायत समूहों (self help group) द्वारा बड़ा ही सराहनीय कार्य किया गया। स्वरोजगार से जुड़े इन समूह से कोविड के दौरान बड़ी भूमिका निभाई। जहां शहरों से लाखों की संख्या में पलायन हुआ, लोग बेरोजगार हुए, वहीं shg groups ने कोरोना से लड़ने के लिए मास्क बनाना सेनेटिज़ेर वितरण व अन्य ऐसे कार्यो में भाग लिया जो कोविड के दौरान कारगर साबित हुए। विश्व के विभिन्न संस्थाओं द्वारा भी भारत में स्वयं सहायता समूहों के कोरोना काल के योगदान की सराहना की है। इस प्रकार हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में भी हमारे देश के shg ऐसे ही कार्य करते रहेंगे।

SHG Full Form क्या है ?

SHG FULL FORM – SELP HELP GROUP (स्वयं सहायता समूह)

Self help group (SHG) overview -2022

योजना का नाम स्वयं सहायता समूह। 
लोकेशन सम्पूर्ण भारत (ग्रामीण क्षेत्र)
योजना की शुरुआत 2007
आधिकारिक वेबसाइट https://nrlm.gov.in/
स्वयं सहायता समूह का टोल फ्री नंबर1800-180-5999
सदस्यों की संख्या 10 से 20 सदस्य होने चाहिए
SHG Full form SELP HELP GROUP (स्वयं सहायता समूह)

स्वयं सहायता समूह क्या है?

Self help group (shg) आपस में अपनापन रखने वाले एक समान अति सूक्ष्म व्यवसाय एवं उद्यम चलाने वाले गरीब लोगों का एक ऐसा समूह है, जो अपनी आमदनी से सुविधाजनक तरीके से कुछ बचत करते है। जमा इस छोटी-छोटी बचत को समूह के सम्मिलित फण्ड में शामिल करते रहते है, और उसे समूह के ही सदस्यों को उनकी जरुरत के हिसाब से (उत्पादक और उपभोग जरूरतों) समूह की शर्तो एवं तय ब्याज, अवधि पर दिए जाने के लिए आपस में सहमत होते है। यानि समूह के सदस्य अपनी आमदनी का कुछ हिस्सा प्रति माह समूह में जमा करते है। जमा राशि में से ही जरूरतमन्द सदस्य को समूह की शर्तो पर ऋण दिया जाता है।

स्वयं सहायता समूह के उद्देश्य

सरकार द्वारा एनआरएलएम एसएचजी (NRLM, SHG) को किसी खास मकसद से शुरू किया गया है। जिनका विवरण बिंदुवार निम्न है –

  • सरकार द्वारा ग्रामीण भारत के ऐसे गरीब लोगों का उद्धार करना है, जो अपनी गरीबी मिटाने लिए एक मजबूत इच्छाशकित रखते है। जिनके अंदर कुछ कर गुजरने के लिए भरपूर क्षमताएं भी हैं।
  • सरकार चाहती है कि ग्रामीण क्षेत्रो के ग्रामीण समाज की गरीब महिलाये व परिवार अपने जीवन स्तर में सुधार के साथ – साथ उनमे सामाजिक एकजुटता की भावना को जागृत हो। इसके अलावा वह एक मजबूत संगठन के रूप में विकसित हो। उनकी वास्तविक क्षमता को उनके जागृत करना है।
  • महिलाओं में जागरूकता फैलाना, उनकी स्किल का विकास करना, महिला सशक्तिकरण को मजबूत करना आदि सभी उदेश्य sgh के माध्यम से पुरे किये जा सकते है।
  • ग्रामीण गरीब परिवारों को स्थानीय स्तर पर ही रोजगार उपलब्ध करवाना। जिससे उनकी मुलभुत आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके।

स्वयं सहायता समूह के नियम व शर्ते

  • समूह कम से कम 6 माह से सक्रीय रूप से संचालित होना चाहिए। 
  • shg group के सदस्यों द्वारा समूह में निरंतर मासिक बचत अपने पास उपलब्ध संसाधनों से जमा की हो।
  • समूह द्वारा अपने पास जमा राशि से सदस्यों को ऋण दिया हो। 
  • खाते का पूरा लेखा जोखा रखा गया हो। किसी भी सदस्य को दिया गया ऋण या जमा की गयी मासिक बचत राशि को पूरा विवरण एक रजिस्टर में दर्ज होना चाहिए। 
  • समय समय पर साप्ताहिक या मासिक आधार पर बैठक की जा रहे हो। जिसका विवरण मीटिंग रजिस्टर में दर्ज होना चाहिए।
  • समूह में लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य हो रहा हो। सभी सदस्यों की सहभागिता रही हो एवं सभी की बात भी सुनी जा रही हो। 
  • समूह का उदेश्य एक दूसरे की मदद करना व स्वरोजगार का होना चाहिए न कि बैंक से केवल ऋण लेने के लिए रहा हो। 
  • बैंक द्वारा ऋण देने के समय इन सभी बिंदुओं को बारीकी से देखा जाता है। बैंक अधिकारी / शाखा प्रबंधक इस बात से संतुष्ट हो कि समूह का उदेश्य वास्तविक स्वरोजगार व एक दूसरे की सहायता करना है। बैंक ऋण आवेदन फार्म पर एक रेटिंग टेबल होती है, उसमें उन्ही एक निश्चित नंबर प्राप्त होने पर ही ऋण के लिए पात्र होते है।
  • सभी सदस्य एक हित एवं पृष्टभूमि के होने चाहिए। यानि सभी सदस्य जो भी सूक्ष्म व्यवसाय कर रहे है उस ग्रुप में एक ही व्यवसाय से संबधित होने चाहिए। जैसे – दूध बचने का हो तो सभी उसी संबधित होने चाहिए। और यदि सिलाई का कार्य करते है तो सभी सिलाई का कार्य करते हो।
  • nrlm shg को बैंक द्वारा ऋण का मानक उनके जमा के अनुसार जमा का 1:1 के अनुपात से लेकर 1:4 तक हो सकता है। 

स्वयं सहायता समूह सदस्य बनने के मुख्य बिंदु

  • समूह में अति गरीब व गरीब महिला या गरीबी रेखा से नीचे (bpl) परिवार की महिलाओं को इसमें शामिल किया जाता है।
  • समूह में शामिल होने वाली महिलाओं की उम्र 18 से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए। शामिल सदस्य महिला को NRLM shg हेतु चिन्हित होना चाहिए। 
  • समूह के सदस्यों द्वारा प्रत्येक माह कुछ राशि जमा की जाती है। इसीलिए इसके लिए ऐसे सदस्यों का होना भी जरुरी है, जो समूह सदस्यों की सहमति से निर्धारित न्यूनतम राशि जमा करने में सक्षम होनी चाहिए। जिससे व मासिक अंशदान कर सके।
  • nrlm shg के लिए ऐसी महिलाओ को शामिल किया जायेगा, जो जरुरत पढ़ने पर सामूहिक कार्य करने के लिए इच्छुक हो।
  • शामिल महिला सदस्य को समय समय पर होने वाली समूह की बैठक में शामिल होने के लिए समय देना चाहिए।
  • समूह में 10 से 20 महिला सदस्य होनी चाहिए।
  • स्वयं सहायता समूह को दिया जाने वाला ऋण प्राथमिक श्रेणी में रखा गया है। बैंक nrlm project के तहत दिए गए ऋण को जब आगे रिपोर्ट करता है, तो आगे कॉलम में shg को दिया गया ऋण दर्शा देते है।
JSLPS Recruitment 2022

समूह की नियमित बैठक

  • सदस्यों को जमा हेतु साप्ताहिक बचत राशि निर्धारित करना। 
  • साप्ताहिक बैठक के लिए समय तय करना एवं कहा आयोजित होगी उकसे लिए स्थान का चुनाव भी करना। 
  • संगठन व सामूहिक कार्य करने के लिए पहल करना।
  • समूह द्वारा सामूहिक निर्णय लेना एवं उसके बाद उस पर अमल भी लाना।
  • पंचसूत्र के बारे में समूह सदस्यों को बताना।

समूह के संचालन हेतू नियुक्त पदाधिकारी

NRLM group बनने के बाद अब सबसे बड़ा सवाल यह रहता है, कि इसको चलाएगा कौन। यानि इसका संचालन कौन करेगा। इसी कार्य को करने के लिए समूह सदस्यों में से तीन पदाधिकारियों का चयन किया जाता है। जिसमे अध्यक्ष, कोषाध्यक्ष एवं सचिव होते है। 

अध्यक्ष का कार्य समूह का सञ्चालन करना होता है, सचिव का समूह के सभी कार्यो का लेखा रखना, कोषाध्यक्ष का कार्य पैसों से संबधित लेनदेन का हिसाब रखना कोषाध्यक्ष का होता है। इसके अलावा सरकार द्वारा प्रत्येक गांव के लिए एक nrlm sakhi का चयन भी किया जाता है। जिनका कार्य समूह का गठन करना, शुरुआत समय में गांव में जागरूकता कैंप लगाना आदि होता है।

NRLM SHG Bank Loan Linkage

समूह के गठन के बाद शुरूआती कुछ महीने तक समूह के सभी सदस्यों द्वारा एक निश्चित राशि जमा की जाती है। छः महीने तक नियमित रूप से जमा करने के बाद समूह बैंक ऋण लेने के लिए पात्र हो जाते है। बैंक से ऋण लेने के लिए ब्लॉक के माध्यम से ऋण हेतु आवेदन किया जाता है। ब्लॉक द्वारा फाइल सबमिट करने के बाद बैंक के पास आती है। NRLM SHG Bank Loan Linkage के लिए उन्हें निम्न प्रक्रिया अपनानी होती है।

बैंक ऋण के लिए पात्रता

स्वयं सहायता समूह के गठन के बाद बैंक ऋण के लिए भी पात्र हो जाते है, समूह को बैंक से दिए जाने वाले ऋण के लिए कुछ पात्रता को पूरा करना आवश्यक है। विवरण निम्न है –

  • समूह गठन के बाद प्रत्येक सदस्य को अपने पास से कुछ राशि मासिक बचत का किया जाना आवश्य है। सदस्यों के जमा इस राशि से ऋण दिया गया हो।
  • समूह का संचालन लोकतान्त्रिक तरीके से होना चाहिए।
  • पदाधिकारियों द्वारा सभी लेनदेन का रिकॉर्ड सही तरह से रखा गया हो।
  • ऋण लेने का उदेश्य सभी लोगो के हित को ध्यान में रखकर किया गया हो।
  • ऋण लेने के लिए समूह कम से कम 6 महीने से एक्टिव होना चाहिए।

समूह को बैंक ऋण के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

  • इसके लिए सबसे पहले nrlm की आधिकारिक वेबसाइट https://nrlm.gov.in/ पर जाना होता है।
  • NRLM ऑफिसियल वेबसाइट के होम पेज पर आने के बाद आपको quick link ऑप्शन मिलेगा। आपको इस पर क्लिक करना है, क्लिक करने के बाद आपको विकल्पों की एक लम्बी लिस्ट दिखाई देगी, यहां पर आपको SHG Bank Loan विकल्प पर क्लिक करना है। अब आपके सामने shg bank loan का डेशबोर्ड खुल जायेगा।
selp help group
  • बैंक लोन के डेशबोर्ड पर आपको कुछ विकल्प मिलेंगे। आपको यहां पर लॉगिन विकल्प पर क्लिक करना है।
  • अब लॉगिन करने के लिए ब्लॉक / तहसील से प्राप्त अपना यूजर आईडी व पासवर्ड दर्ज करें।
selp help group
  • यूजर आईडी पासवर्ड डालने के बाद आप लॉगिन कर जायेगें। आपको यहां पर न्यू एप्लीकेशन विकल्प को चुनना है।
  • अब आपके सामने आवेदन फार्म खुल जायेगा। मांगी गयी सभी जानकारियां सावधानीपूर्वक भरें, व उसके बाद सबमिट कर दें।

इस प्रकार आपके shg bank loan आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इसके बाद आपका आवेदन फार्म बैंक के पास जायेगा। बैंक भी इसी तरह यूजर आईडी व पासवर्ड दर्ज कर समूह के ये आवेदन फार्म देख पाएंगे। यदि बैंक की सभी औपचारिकता पूरी हो जाती है, तो बैंक द्वारा group का ऋण स्वीकृत कर दिया जाता है।

प्रधानमंत्री का NRLM स्वयंसेवी महिलाओं के साथ संवाद

जुलाई 2018 में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने एप्प के द्वारा एक करोड़ से अधिक shg से जुडी महिलाओं से संवाद किया था। यदि कारण था कि SGH काफी चर्च में आ गया था। संवाद के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देस्ग ने कृषि एवं डेयरी का विकास में महिलाओं का विशेष योगदान है। इनके बिना इसका इतना विकास करने के कल्पना भी नहीं की जा सकती है। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्री मोदी ने कहा था कि 2011-2014 के दौरान देश में 50 लाख स्वयं सहायता समूह थे। जो 2018 में बढ़कर 20 लाख हो गए है। जिसमे कुल 2.25 से अधिक परिवारों को जोड़ा गया है। इस प्रकार उन्होंने इसके बारे में अन्य बाटे भी बताई थी। 

shg से संबधित अधिक जानकारी के लिए आप सरकार की निम्न आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर सकते है।

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया https://www.rbi.org.in/ 

NRLM आधिकारिक वेबसाइट – https://nrlm.gov.in

प्रश्न 1 SHG की Full Form क्या है ?

उत्तर – shg की full फॉर्म self help group है।

प्रश्न 2 SHG क्या है?

उत्तर – National Rural Livelihood Mission (NRLM) परियोजना के अंतर्गत गठित 10 से 20 लोगो के समूह है। जिन्हे स्वयं सहायता समूह कहा जाता है। इन्हे सरकार स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध करवाने का प्रयास कर रही है।

22 thoughts on “स्वयं सहायता समूह 2022 | Self help Group (SHG) क्या है? | समूह कैसे बनाएं | Benefit, Eligibility, Online Apply”

  1. क्या समूह मे शामिल होने के लिए अपना मकान का होना जरूरी है

    Reply
  2. Sar hamen narega mate banna hai Ham kafi samay se dhundh rahe hain narega meet banne ke liye block khandoli vill.bas jokhi

    Reply
    • नरेगा में किसी भी तरह का काम करने के लिए आप अपने ग्राम प्रधान से संपर्क करें।

      Reply
  3. क्या बैंक के बचत खाते से राशि आहरण के लिए प्रस्ताव में सभी सदस्य का नाम एवम हस्ताक्षर आवश्यक है

    Reply

Leave a Comment

x
error: Content is protected !!