e-NAM कृषि बाजार – 2022 | E NAM Portal Online Registration

E-NAM PORTAL | ई-नाम पोर्टल रजिस्ट्रेशन 2021 2022 | E-NAM Farmer’s Market | E NAM Mandi List |

E NAM 2022: केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों के लिए ऑनलाइन मार्केटप्लेस उपलब्ध करवाया गया है, जहां पर किसान ऑनलाइन अपनी फसलों को अच्छे दामों में बेच पाएंगे। इनाम के माध्यम से किसान व्यापारी व खरीददार को एक मंच पर लाया जायेगा। इसे e nam नाम दिया गया है। केंद्र सरकार द्वारा ई-नाम पोर्टल की शुरुआत 2016 मे की गयी थी, यह एक पूर्णतः डिजिटल पोर्टल है। इस पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसलों को ऑनलाइन बेच पाएंगे, अपनी समस्याओं को हल कर पाएंगे।

E NAM

इस प्रकार enam portal के द्वारा किसानों का काफी फायदा होने वाला है। इस पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को बेच सकते है, फसल के बदले पैसे खाते मे मंगा सकते है। पोर्टल को शुरू करने का उद्देश्य है किसानों की फसल से सम्बन्धित समस्या सुलझाना और उनसे सम्बंधित सभी समस्याओं व खेती संबधित जानकारी देने में किसानों की मदद करना। यह एक ऑनलाइन राष्ट्रीय कृषि बाजार है, जहां आप अपनी फसल को ऑनलाइन बेच सकते है। इस प्रकार हम आर्टिकल में जानेंगे कि ई-नाम पोर्टल क्या है ? इसके फायदे क्या है, ई – नाम पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे किया जा सकता है, आदि।

राष्ट्रीय कृषि बाजार – 2022

e-NAM अथवा राष्ट्रीय कृषि बाजार एक ऑनलाइन वाणिज्य मंच है, जिसका मकसद किसानों, व्यापारियों व क्रेताओं को एक मंच के माध्यम से ऑनलाइन वाणिज्य की सुविधा उपलब्ध करवाना है। जिसके माध्यम से किसानों, व्यापारियों व खरीददारों सभी को फायदा होने वाला है। यहां पर देश भर की लगभग 585 मंडियों के भाव व वहां पर उगाई व बेचीं जाने वाली फसलों का विवरण ऑनलाइन उपलब्ध करवाया गया है।

एक जिला एक उत्पाद क्या है?

यह पोर्टल देश भर के कृषि बाजारों को ऑनलाइन प्लेटफार्म को जोड़ने का कार्य करता है। ई नाम पोर्टल देश भर के किसानों को अपनी फसल को ऑनलाइन कहीं भी बेचने का अवसर देता है। इस पोर्टल के माध्यम से किसानों को उनकी फसल के अच्छे दाम मिलेंगे, साथ ही केंद्र सरकार की किसानों की आय को दुगना करने के प्लान में भी काफी सहायक हो रही है।

ई-नाम पोर्टल की सक्षिप्त जानकारी 2022

पोर्टल का नामई-नाम पोर्टल
पोर्टल की शुरुआत 2016 
संबधित विभागकृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
पोर्टल के लाभार्थीदेश के सभी किसान
अधिकारिक वेबसाइट यहा क्लिक करे
हेल्पलाइन नंबर / टोल फ्री नंबर 1800 270 0224

ई-नाम पोर्टल का पूरा नाम (Full Form of E-Nam)

E-Nam का पूरा नाम Electronic – National Agriculture Market है।  

ये भी पढ़ें –

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

फसल हरियाणा पोर्टल

ई नाम पोर्टल की सफलता 

इस पोर्टल के शुरुआत से ही काफी सफलता मिली है। इस पोर्टल के माध्यम से कई सारे किसानों को लाभ मिला है। इस पोर्टल की सफलता इससे दिखती है की इस पोर्टल पर तक़रीबन 1.63 लाख व्यापारियों ने अपना रजिस्टर करवाया हुआ है। इसके साथ ही इस पर तक़रीबन 1000 मंडियों को जोड़ा गया है। 

देश की सभी नामचिन्ह मंडियों को इस पोर्टल के माध्यम से जोड़ा गया है। इसके साथ ही इस पोर्टल पर कई सारी जानकारी दी जाती है। यही कारण है की इस पोर्टल की सफलता दिखती है। 

ई-नाम पोर्टल से किसानों को होने वाले लाभ

◆ किसान को उनकी फसल का उचित मूल्य मिलेगा। किसान अपनी फसल को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से बेच पाएंगे।

◆ पोर्टल के शुरू होने से किसान अपनी फसल को सीधे खरीददार को बेच पाएंगे। इसमें बिचौलियों का हस्तक्षेप अथवा दलाली पर पूर्णतः बंद हो जाएगी।

गेहूं पंजीकरण उत्तर प्रदेश

ई नाम पोर्टल के लाभ

  • इस पोर्टल पर सभी प्रकार की जानकारी जैसे किसानों से जुडी, खेती से जुडी, कृषि से जुडी इत्यादि इस एक ही पोर्टल पर मिल जाती है। 
  • इसके सभी प्रकार की खेती से जुडी फसल को खरीदने और बेचने के प्रावधान है जो की एक ऑनलाइन प्रक्रिया के दोहरान काफी आसान है। 
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को ऑनलाइन बेच सकते है और उन्ही फसल को सभी व्यापारी ऑनलाइन खरीद सकते है और उन्हें आगे रिटेल मे बेच सकते है जो की काफी आसान है। 
  • इस पोर्टल के जरिये देश के अधिकतम किसानों और व्यापारियों को जोड़ा जाएगा जिसमे कई तरह की और भी सुविधा और भी आसान हो जायेगी। 
  • इस ई-नाम पोर्टल के माध्यम से फसल बेचने पर खरीदने के लिए जो भी दर किसानों को मिलेगी और व्यापारी उसे किन राशि मे खरीदेंगे, उनके बारे मे भी जानकारी मिलेगी और इसमे पारदर्शिता बनी रहेगी। 
  • इस पोर्टल के आने के बाद किसान अब बेचोलियो और आड़नगियो पर निर्भर नही रहेंग बल्कि वे खुद की कृषि फॉर्म से अपनी फसल को बेच सकेंगे। 
  • इस पोर्टल के माध्यम से वैसे तो कई तरह की फसल बेचीं जा सकती जिसमे से यह कुछ निम्न है जैसे दाल, आलू, मटर, हरी सब्जी इत्यादि। 
  • बेहतर मूल्य और बेहतर खरीद की वजह से किसानों के बेचने और खरीदने मे पारदर्शिता आयेगी।
  • इसके अलावा इसमे ई–बोली प्रक्रिया भी रहेगी। 
  • इसके बाद अगर किसान अपनी फसल बेचता है तो उसे उसका भुगतान उसके खाते मे सीधा भेज दिया जाएगा। 

ई – नाम पोर्टल की विशेषताएं

  • इस पोर्टल के आने से देश के सभी किसान और मंडी इससे जुड़ने लगी है, इसका मलतब है अब किसान इस पोर्टल के माध्यम से अपनी फसल को राज्य के बाहर भी बेच सकेंगे। 
  • इस पोर्टल सरकार और भी नई और छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी मंडी को जोड़ा जाएगा। 
  • इस पोर्टल का कार्य लघु कृषक कृषि व्यापारी दुवारा किया जाएगा।

ये भी पढ़ें –

उत्तर प्रदेश ई-मंडी

किसान क्रेडिट कार्ड

यह है इस पोर्टल की कुछ सामान्य विशेषता। इसके अलावा इस पोर्टल पर रजिस्टर करने के लिए कुछ पात्रताएं होनी चाहिए। इन पात्रताओं के बिना कोई भी आसानी से रजिस्टर नहीं कर सकता है। इस पोर्टल की सबसे पहली पात्रता तो यह है की इस पोर्टल का लाभ देश का हर किसान भाई उठा सकता है। 

ई-नाम पर रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

पोर्टल पर रजिस्टर करने के लिए आवेदक के पास निम्न दस्तावेजों का होना आवश्यक है-

  • आधार कार्ड – इस पोर्टल पर रजिस्टर करने के लिए आवेदक के पास खुद का आधार कार्ड होना चाहिए। 
  • आवेदक का पहचान पत्र – इसके बाद आवेदक के पास खुद का पहचान पत्र भी होना जरुरी है। इस पहचान पत्र मे आवेदक का वोटर आईडी और पासपोर्ट इत्यादि जरुरी है। 
  • किसान के नाम से बैंक खाता – इस पोर्टल पर रजिस्टर करने के लिए आवेदक को अपना बैंक खाता भी देना होता है। यह भी सबसे ज्यादा जरुरी है। 
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो – आवेदक के पास खुद का पासपोर्ट साइज़ फोटो भी अपलोड करना होता है। 

ई नाम पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण

यह एक प्रक्रिया है और इस पोर्टल की माध्यम से ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। हलांकि इसमे रजिस्टर करने के लिए आपको इस वेबसाइट और इस पोर्टल की सहायता लेनी होती है। इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के बाद ही आप इस पोर्टल की मदद ले सकते है। 

इस पोर्टल का संचालन देश मे लघु कृषक कृषि व्यापार संघ और कल्याण किसान के अंतर्गत लागू किया गया है। इसके साथ ही इस पोर्टल को एक वेबसाइट भी जारी की गई है। इस पोर्टल को ऑनलाइन किया गया है जिसके बाद इस वेबसाइट के माध्यम से हर किसान इस पर लॉग इन कर सकता है। 

ई-नाम पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्टर कैसे करे?

  • Step 2 – पोर्टल के होम पेज पर आने के बाद आपको Registeration विकल्प पर क्लिक करना होगा।
e nam registration
  • Step 3 – जैसे ही आप इस रजिस्टर के लिंक पर क्लिक करेंगे, आपके सामने रेजिस्टर के लिए एक ऑनलाइन फॉर्म खुल जायेगा। आपको यहां मांगी गयी सभी जानकारियों को सावधानीपूर्वक भरनी होगी।
enam registration
  • Step 4सभी जानकारियां भरने के बाद आपको बैंक पासबुक व केन्सिल चेक अपलोड करने का विकल्प मिलेगा। आप इसे निर्धारित स्थान पर इसे अपलोड कर दें। इसके बाद कॅप्टचा कोड भरकर सबमिट बटन को दबा दें।

इस प्रकार आपके रजिस्ट्रशन की प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी।

ई-नाम पोर्टल पर लॉग कैसे करें?

  • आप सबसे पहले ईनाम की आधिकारिक पोर्टल पर जाएँ।
  • ईनाम के आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर आने के बाद आपको ऊपर की ओर Login विकल्प पर क्लिक करना होगा।
enam1
  • अब आप नए पेज पर आ जायेंगे, जहां आपको अपनी यूजर आईडी व पासवर्ड डालना होगा। इसके बाद कॅप्टचा कोड भरकर सबमिट बटन दबा दें।
enam2

लॉगइन विकल्प दबाने के बाद आप ईनाम डैशबोर्ड पर आ जायेंगे। इस प्रकार आप पोर्टल पर लॉगिन कर सकते है।

ई-नाम मोबाइल एप्लीकेशन को कैसे इनस्टॉल करे?

ई-नाम पोर्टल के एप्लीकेशन को आप काफी आसानी से अपने मोबाइल इनस्टॉल सकते है, ईनाम मोबाइल एप्लीकेशन की मदद से आप कहीं जानकारियां प्राप्त कर सकते है।

  • Step 1 – एप्लीकेशन को डाउनलोड करने के लिए आपको सबसे पहले अपने मोबाइल के प्ले स्टोर को ओपन करना होगा।
  • Step 2 – मोबाइल प्ले स्टोर के सर्च बॉक्स में आप ईनाम टाइप करें, उसके बाद सर्च बटन को दबाये।
  • Step 3 – आपके सामने अब कहीं मोबाइल एप्लीकेशन खुल जायेंगे। आपको आधिकारिक ऐप का चयन करना है, उसके बाद उस पर क्लिक करें।
  • Step 4 – इस प्रकार आपके मोबाइल में ईनाम एंड्राइड एप्लीकेशन इनस्टॉल हो जायेगा।

ई – नाम पोर्टल पर शुरू की गयी नयी सेवाएं

ईनाम पोर्टल सन 2016 में शुरू किया गया थी, 2021 में पोर्टल के पांच वर्ष पुरे होने के अवसर पर इसमें कुछ नयी सेवाओं को शुरू किया गया है। इन सेवाओं को केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा शुरू किया गया, शुरू की गयी सेवाओं का विवरण निम्न है –

  • मंडी की जानकारी – पोर्टल मंडी से जुडी नयी जानकारीयां अपलोड की गई है।
  • सहकारी मोड्यूल – ईनाम पोर्टल पर सहकारी मोड्यूल के अनुसार काम किया जा रहा है, जैसे इस पोर्टल पर सहकारी समिति अपने गोदामों से एपीएमसी पर लाये बिना ही किसानों को अपनी फसल बेचने की सुविधा मिलेगी। इसके लिए फसल को खेतो से मंडी पर लाने की जरूरत नही है।
  • मौसम का पूर्वानुमान और सुचना – ईनाम पोर्टल पर मौसम संबधी पूर्वानुमान का विवरण उपलब्ध करवाया जायेगा। मौसम जानकारी में आपको किसी भी क्षेत्र बरसात, धुल, आंधी इत्यादि की जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी।

इस लेख मे आपको e-NAM portal के बारे मे बताया गया है। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।

Leave a Comment

x
error: Content is protected !!